Sie sind auf Seite 1von 68

गौ पालन: एक नजर में

(भाग 1)

डॉ प्रतीक शक्
ु ला, पशु विज्ञानी,
कृविके, खादीग्राम,जमई

क्या गौ पालन एक
लाभकारी व्यिसाय है
???
लाभ-हानन
• 10 लीटर दध ू दे ने वाली गाय का रखरखाव का एक
ददन का कुल खर्च =
• 1- दाना- 5 kg (2 kg र्ोकर, 2kg घट्टा, 1kg खली)=
105 रूपए
• 2- कैल्शियम और ममनरल- 10 रुपये
• 3- दवा आदद खर्च- 10 रूपए
• 4- अतिररक्ि खर्च- 25 रूपए

• कुल = 105+10+10+25= 150 रूपए/ददन


• 10 लीटर दध
ू दे ने वाली गाय से प्रतिददन की
कमाई = 10X25 = 250 रूपए

• कुल बर्ि= 250-150= 100 रूपए/ददन


गाय तथा भैंस की उच्चतम नस्लें
• 1.Sahiwal
• Mainly found in Punjab, Haryana, U.P, Delhi,
Bihar and M.P.
• Milk yield – Under village condition :10-12 kgs
– Under commercial farms: 15-20 kgs
• Age at first calving -32-36 months
• Calving interval – 15 month
Sahiwal
• 2. Gir
• Mainly found in Gir forest areas of South
Kathiawar
• Milk yield – Under village condition : 8-9 kgs
– Under commercial farms: 10-12
kgs
• 3.Tharparkar
• Mainly found in Jodhpur, Kutch and Jaisalmer
• Milk yield – Under village condition :8-10 kgs
– Under commercial farms: 10-11 kgs
• 4.Red Sindhi
• Mainly available in Punjab, Haryana,
Karnataka, Tamil Nadu, Kerala and Orissa.
• Milk yield – Under village condition :9-10 kgs
– Under commercial farms: 10-13kgs
• 5. Hariana
• Mainly found in Karnal, Hisar and Gurgaon
district of Haryana, Delhi and western M.P
• Milk yield –10-15 kgs
• Bullocks are powerful for road transport and
rapid ploughing
• 6. Jersey
• Age at first calving : 26-30 months
• Intercalving – 13-14 months
• Dairy milk yield is found to be 20-22 lts whereas
cross bred jersey, cow gives 12-15 lts per day.
• In India this breed has acclimatized well especially
in the hot and humid areas
• Holstein Friesian
• This is by far the best dairy breed among
exotic cattle regarding milk yield. On an
average it gives 25-30 litres of milk per day,
whereas a cross breed H.F. cow gives 12-15 lts
per day.
BREEDS OF BUFFALO
• Murrah
• Mainly found in Haryana, Delhi and Punjab
• On an average the daily milk yield is found to
be 10-11 lts, whereas a cross breed murrah
buffalo gives 7-8 lts per day.
• It performs well in coastal and slightly cold
climatic areas.
Murrah
• Surti
• Gujarat
• On an average the daily milk yield is found to
be 8-10 lts, whereas a cross breed Surti
buffalo gives 6-7 lts per day.
जानिर की खरीद
• 1-सही जगह
• 2-सही नस्ल
• 3-सही पिु
स्िस्थ पशु के लक्षण
1- EYE (आँखें)
2-NOSE (नाक)
3-COAT (त्वर्ा)
4- WEIGHT/BODY SCORE (िारीररक संघठन)
5-ATTITUDE (व्यवहार)
6-MOBILITY (र्ाल-ढाल)
7-UDDER (थन)
8-HISTORY (इतिहास)
9-AGE (आय)ु
आयु ननर्ाारण
निजात दो साल

7-8 साल 10 साल


नस्ल सर्
ु ार कायाक्रम
• 1- क्रॉस-ब्रीड ग

• 2- सेलेल्क्टव ब्रीड ग

• 3- Grading Up
गौ पालन से सम्बन्र्ी गलतफहममयाां
• ममनरल ममक्सर्र
• कैल्शियम
• दध
ू छोड़ना
• बच्र्े का पालन
• पहला दध ू
• कीड़े की दवा
• AI का समय
• दधू दह ु ने का िरीका
गौ पालन: एक नजर में
(भाग 2)

डॉ प्रतीक शक्
ु ला, पशु विज्ञानी,
कृविके, खादीग्राम,जमई

गाय तथा भैंस में होने िाली मख्
ु य
बीमाररयााँ
• 1- टीकाकरण योग्य बीमाररयाँ
• 2-मक्खी, मच्छर व र्मोकन से होने वाली
बीमाररयाँ
• 3- बच्र्ा दे ने के बाद होने वाली बीमाररयाँ
• 4- गलि खान-पान से होने वाली बीमाररयाँ
• 5- थनों में होने वाली बीमाररयाँ
1- टीकाकरण योग्य बीमाररयााँ
• A. मह ु पका -खरु पका (FMD)
• B. गलसुआ (HS)
• C. Black Quarter (BQ)
• D. रे बीज
A- मह
ु पका -खरु पका (FMD)
•मख्
ु य लक्षण

•दध
ू उत्पादन में अर्ानक गगरावट

•अत्यगधक लार गगरना

•जीभ, िालू िथा मह


ु के आस पास छाले पड़ना

•लंगड़ापन

•अत्यगधक कमजोरी
A- मह
ु पका -खरु पका (FMD)

मुांह के अन्दर की जीभ की स्स्थनत


स्स्थनत

खुरों की स्स्थनत थनों की स्स्थनत


बचाि
• रोगी पिु को िुरंि अलग कर दें
• रोगी पिु का सभी सामान जैसे: उसका र्ारा,
पानी िथा कप ा िुरंि जला के नस्ट कर दें
• सभी स्वस्थ पिु जो की 4 महीने से बड़े हैं,
उनका टीकाकरण हर 6 महीने पर अवस्य
करवाएं
B. गलसआ
ु (HS)
मख्
ु य लक्षण:
▪िेज बुखार
▪ दध
ू उत्पादन में अर्ानक गगरावट
▪अत्यगधक लार व नाक से पानी गगरना
▪गले में सूजन
▪सांस लेने में िकलीफ िथा घरच घरच की आवाज आना
▪रोगी पिु सामान्यिया 1-2 ददन में मि
ृ हो जािा है
▪भैंस में यह रोग गाय की अपेक्षा अगधक होिा है
बचाि
• रोगी पिु को िुरंि अलग कर दें
• रोगी पिु का सभी सामान जैसे: उसका र्ारा,
पानी िथा कप ा िुरंि जला के नस्ट कर दें
• बाररि के मौसम में पिुओं को अगधक भीड़
भाड़ से दरू रखें
• सभी स्वस्थ पिु जो की 6 महीने से बड़े हैं,
उनका टीकाकरण प्रति वर्च अवस्य करवाएं
C. Black Quarter (BQ)
मुख्य लक्षण:

▪यह रोग मुख्यिः गंदे र्ारे से होिा है

▪ िेज बुखार

▪भोजन का त्याग

▪कंधे िथा जांघ की मांसपेमियों में ददच भरी सूजन

िथा दबाने पर गर्िगर्ि की आवाज आना

▪रोगी पिु सामान्यिया 1-2 ददन में मि


ृ हो जािा है

▪बच्र्ों में यह रोग बड़ी गाय की अपेक्षा अगधक होिा है


बचाि
• रोगी पिु को िुरंि अलग कर दें
• रोगी पिु का सभी सामान जैसे: उसका र्ारा,
पानी िथा कप ा िुरंि जला के नस्ट कर दें
• बाररि के मौसम में पिुओं को गंदे र्ारे से दरू
रखें
• सभी स्वस्थ पिु जो की 6 महीने से बड़े हैं,
उनका टीकाकरण प्रति वर्च अवस्य करवाएं
D. रे बीज
• मुख्य लक्षण:

▪ यह रोग मुख्यिः रे बब कुत्ते के काटने से होिा है

▪ अत्यगधक लार का गगरना

▪ मह
ु से गरु ाचने की आवाज आना

▪ भोजन का त्याग

▪ लकवा मार जाना

▪ रोगी पिु सामान्यिया लक्षण ददखने के 2-3 ददन में मि


ृ हो जािा है
बचाि
• घाव को िुरंि साफ़ पानी िथा साबन
ु से 5-10
ममनट िक धोएं

• पिु गर्ककत्सक से ममलकर अपने पिु को


रे बबज के टीके ददलवाए
गाय तथा भैंस में टीकाकरण ननयम
क्रम सां० बीमारी ू टर खरु ाक अगली
पहली खरु ाक बस्
खुराक
1 खुरपका >4 महीना 1 महीने पर 6 महीने
बाद
2 गलसआ
ु >6 महीना - 1 साल बाद

3 BQ >6 महीना - 1 साल बाद

4 रे बीज कुत्ता काटने 4 ददन बाद 7, 14 तथा


के तरु ां त बाद 28िें ददन
पर
टीकाकरण सम्बन्र्ी कुछ सािर्ाननयाां

• पिु का स्वास््य

• पिु की आयु

• टीका दे ने का िरीका

• टीका दे ने का समय

• टीके का रखरखाव
2-मक्खी, मच्छर ि चमोकन से होने
िाली बीमाररयााँ

• A- लहुमत
ु ना

• B- सराा
A- लहुमत
ु ना
र्मोकन से फैलिा है
मख्
ु य लक्षण:
1- िेज बख
ु ार
2- भूख न लगना
3- कमजोरी
4- लाल रं ग का पेसाब
उपचार
• लक्षण स्पस्ट होने पर अच्छे पिु गर्ककत्सक से
परामिच करे

• बेरेननल- 15-20 ml इंजेक्िन इसकी मुख्य दवा


है
B- सराा
• मक्खी से फैलिा है
• मख्
ु य लक्षण:
• 1- एनीममया
• 2- सर घम
ू ना, र्क्कर आना
• 3- कमजोरी
• 4- िरीर के तनर्ले दहस्सों में सज
ू न
• 5- 2-3 सप्िाह में मत्ृ यु
उपचार
• लक्षण स्पस्ट होने पर अच्छे
पिु गर्ककत्सक से परामिच
करे

• सरााममन- 15-20 ml इंजेक्िन


इसकी मख्ु य दवा है
मक्खी, मच्छर ि चमोकन की रोकथाम
मख्
ु य बातें :-

• आवास की साफ़ सफाई

• पिु की साफ़ सफाई

• धए
ू ँ का प्रयोग
• कफनाइल का प्रयोग

• कीड़े की दवाई का तनयममि प्रयोग


3- बच्चा दे ने के बाद होने िाली
बीमाररयााँ
• 1- जेर अटकना
• 2- गभाचसय का बाहर आ जाना
• 3- ममशक फीवर
• 4- ककटोमसस
1- जेर अटकना
• सामान्यिया बच्र्ा दे ने
के 3-12 घंटों के अन्दर
जेर तनकल जािी है
• अगर 12 घंटे से अगधक
समय हो जाए िो कफर
पिु गर्ककत्सक से संपकच
करना र्ादहए
2- गभाासय का बाहर आ जाना
3- ममल्क फीिर
मख्
ु य लक्षण

• बच्र्ा दे ने के बाद िरीर में कैल्शियम की कमी


होने की वजह से यह होिा है
• बच्र्ा दे ने के 72 घंटे के अन्दर यह रोग होिा है
• िरु
ु वािी समय में पिु को उठने में समस्या होिी
है कफर उसकी गदच न एक ओर मड़
ु जािी है
• अंतिम र्रण में पिु का िरीर ठं ा हो जािा है
बचाि एिां उपचार

• गभचकाल में अगधक कैल्शियम न पपलाये


• बच्र्ा दे ने के दो ददन पहले से कैल्शियम 50-
100 ml पपलाना सुरु करें िथा अगले 3-4 ददन
िक पपलािे रहें
• बीमार पिु को ॉक्टर द्वारा कैल्शियम की
ोज र्ढ़वाना र्ादहए
4- ककटोमसस
• बच्र्ा दे ने के बाद िरीर में िाक़ि की
कमी होने की वजह से यह होिा है

• बच्र्ा दे ने के 1-2 महीने के अन्दर यह


रोग होिा है

• पिु अत्यगधक कमजोर हो जािा है

• उठने में ददक्क़ि

• दध
ू में अर्ानक गगरावट
• मंह
ु से मीठी खि
ु बू आना
बचाि एिां उपचार
• गभचकाल में संिुमलि आहार दें
• बच्र्ा दे ने के दो ददन पहले से कैल्शियम 50-
100 ml पपलाना सरु ु करें िथा अगले 3-4 ददन
िक पपलािे रहें
• बीमार पिु को ॉक्टर द्वारा कैल्शियम की
ोज र्ढ़वाना र्ादहए िथा उसके आहार में
िाकि की र्ीजें जैसे गुड़, खली दें
4- गलत खान-पान से होने िाली
बीमाररयााँ
• A- गैस / पेट फूलना
• B- पेगर्स
A- गैस / पेट फूलना
कारण:
• बासी र्ावल खाने से
• अगधक हरा र्ारा खाने से

• उपचार:
• 2-3 ददन िक 250-300 ml वनस्पति िेल ददन
में एक बार पिु को पपलाये
• केले के 4-6 पत्ते ददन में एक बार खखलाये
B- पेचचस
कारण:
• पेट में कीड़े
• अगधक मात्रा में दाना खखलाने से

• उपचार:
• संिुमलि आहार
• समय पर कीड़े की दवा जैसे: अशबेन् ाजोल,
फेंबेन् ाज़ोल आदद
5- थनों में होने िाली बीमाररयााँ
थनैला
थनैला
कारण:

गांदगी दह
ु ाई का तरीका थनों में घाि
बचाि एिां उपचार
• स्वच्छिा
• नीम्बू का प्रयोग
• लाल दवा का प्रयोग
• Pendistrin का प्रयोग
स्िच्छ दग्ु र् उत्पादन
• स्वच्छ गोिाला

• स्वच्छ बिचन

• स्वच्छ एवं स्वस्थ पिु

• स्वच्छ एवं स्वस्थ ग्वाला

• स्वच्छ दह
ु न
• स्वच्छ दग्ु ध संग्रह

• स्वच्छ पिु आहार


व्यवस्था
HEAT (गमा)
मख्
ु य लक्षण
• आवाज दे ना
• इधर उधर भागना
• दसू री गाय पर र्ढ़ना
• िोड़ा गगराना
• पेसाब की जगह का लाल िथा फूल जाना
• भोजन छोड़ना
कृत्रिम गभाार्ान (AI)
AI का उचचत समय एिां तरीका
1-समय:
• िोड़ा गगराने के 10-12 घंटे के अन्दर
• जब पिु िांि होकर खड़ा हो जाए
2- तरीका:
ध्यान दे ने योग्य बातें:

• AI का समय

• सीमेन का रख रखाव

• गरम पानी का िापमान

• पिु गर्ककत्सक का ज्ञान


ग्यामभन पशु की दे खभाल

1- खान पान
2- रहने का स्थान
3- दध
ू छोड़ने का समय एवं
िरीका
तरु ां त ब्याये पशु की दे खभाल

1- खान पान
2- रहने का स्थान
र्न्यिाद